Save Water Essay in Hindi – जल संरक्षण पर हिन्दी में निबंध

By | June 12, 2020

Save Water Essay in Hindi – दुनिया में जल संकट दिनों दिन गहराता जा रहा है ऐसे में आज पूरी दुनिया को मिलकर कुछ ऐसी योजना बनानी चाहिए जिसके जरिये हर देश जल संरक्षण कर सके ताकि सभी को अच्छा जल मिल सके।

Save Water Essay in Hindi – जल संरक्षण पर निबंध

Save Water Essay in Hindi

आने वाले सालों यानि भविष्य में जल की कमी न पड़े उसके लिए आप पूरी दुनिया में जल संरक्षण के ऊपर चर्चा हो रही है और जल का संरक्षण किया जा रहा है। कहा जाता है की आने वाले समय में पानी की बड़ी समस्या होने वाली है ऐसे में लोग और देश सभी लोग इस पर विचार कर रहे है की पानी कैसे सेव किया जाय ? पानी की इतनी कमी होने लगी है की आम लोगों को पीने और खाना बनाने के साथ ही रोजमर्रा के कार्यों को पूरा करने के लिये जरूरी पानी लेने के लिए काफी लम्बी लाइन लगानी पड़ रही है तब जाकर उनको पानी मिलता है, अपने देश में कई ऐसे शहर है जिनमे ऐसी इस्थिति देखने को मिलती है उदहारण के रूप में दिल्ली और मुंबई को ही ले लीजिये जहाँ पानी लेने के लिए बहुत लोगों को कई घंटे तक लाइन लगानी होती है तब जाकर पानी मिलता है।

जबकि दूसरी ओर, पर्याप्त जल के क्षेत्रों में अपने दैनिक जरुरतों से ज्यादा पानी लोगों द्वारा बर्बाद कर दिया जा रहा है। सभी को जल के महत्व और भविष्य में जल की कमी से संबंधित समस्याओं को समझना चाहिए ताकि पानी की समस्या आने वाले समय में न हो। हमें जल संरक्षण और बचाने को बढ़ावा देना चाहिये।

पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व को बनाये रखने के लिए जल का संरक्षण और बचाव बहुत जरूरी जरुरी हो गया है, क्योंकि यही एक ऐसा साधन है जिससे जीवन है। अगर जल नहीं तो जीवन नहीं, पूरे ब्रह्माण्ड में एक अपवाद के रुप में धरती पर जीवन चक्र को जारी रखने में पानी ही अपनी सबसे बड़ी भूमिका निभाता है। अगर यही नहीं तो तो सोचो दुनिया कितनी निरश हो जाएगी। पूरे ब्रह्माण्ड में पृथ्वी ही एक ऐसा ग्रह है जहाँ पानी और जीवन दोनों है। पानी की जरुरत हर किसी को पूरी जिंदगी होती है इसलिए इसको बचाना भी हमारी जिम्मेदारी होती है। संयुक्त राष्ट्र के संचालन के अनुसार, ऐसा पाया गया है कि राजस्थान में लड़कियाँ स्कूल नहीं जाती हैं क्योंकि उन्हें पानी लाने के लिये लंबी दूरी तय करनी पड़ती है जिससे उनका पूरा दिन पानी लेने में ही ख़राब हो जाता है। इसलिये उन्हें किसी और काम के लिये समय नहीं मिलता है।

इसे भी पढ़े –

ग्रीनहाउस (Greenhouse Gas) का दुनिया में प्रभाव पर निबंध

२१वी सदी का भारत निबंध (930 words)

पानी को लेकर राष्ट्रीय अपराध रिकार्डस् ब्यूरो के सर्वेक्षण के अनुसार, लगभग 16,632 किसान (2,369 महिलाएँ) आत्महत्या के द्वारा अपने जीवन को समाप्त कर चुकें हैं, हालांकि, 14.4% मामले सूखे के कारण घटित हुए हैं, इसलिए हम कह सकते है किभारत और दूसरे विकासशील देशों में अशिक्षा, आत्महत्या, लड़ाई और दूसरे सामाजिक मुद्दों का कारण भी पानी की कमी ही है। पानी की कमी वाले ऐसे क्षेत्रों में, भविष्य पीढ़ी के बच्चे अपने मूल शिक्षा के अधिकार और खुशी से जीने के अधिकार से वंचित होते जा रहे है।

भारत के जिम्मेदार नागरिक होने के कारण पानी की कमी के सभी समस्याओं के बारे में हमें अपने आप को भी जगरूप रखना होगा तक जल का संरक्षण अच्छे तरीके से हो सके। सभी लोगों का छोटा प्रयास एक बड़ा परिणाम दे सकता है जैसे कि बूंद-बूंद करके तालाब, नदी और सागर बन सकता है।

जल संरक्षण के लिये हमें अतिरिक्त प्रयास करने की जरुरत नहीं है, केवल रोजमर्रा की गतिविधियों में कुछ सकारात्मक बदलाव ही बहुत सारा पानी सेव कर देगा। जैसे हर इस्तेमाल के बाद नल को ठीक से बंद करें, फव्वारे या पाईप के बजाय धोने या नहाने के लिये बाल्टी और मग का इस्तेमाल करें। सैकड़ों लोगों का एक छोटा सा प्रयास जल संरक्षण अभियान की ओर एक बड़ा सकारात्मक परिणाम दे सकता है।

Save Water Essay in Hindi – जल संरक्षण

जीवन को संतुलित रखने के लिए धरती पर विभिन्न माध्यमों के द्वारा जल संरक्षण करना ही जल का बचाव है। जिसके लिए जल बचाओ अभियान चलाने की जरुरत है। औद्योगिक कचरे की वजह से रोजाना पानी के बड़े स्रोत प्रदूषित हो रहे हैं। पानी को बचाने के लिए सभी औद्योगिक बिल्डिंगें, अपार्टमेंटस्, स्कूल, अस्पतालों आदि में बिल्डरों के द्वारा उचित जल प्रबंधन व्यवस्था को बढ़ावा देना चाहिये। आम लोगों को के लिए पानी के बारे में जानने के लिये जागरुकता कार्यक्रम चलाया जाना चाहिये। जल की बर्बादी के बारे में लोगों के व्यवहार को मिटाने के लिये इसकी त्वरित जरुरत है।

गावों में लोगों को बरसात के पानी को इकठा करने की सलाह सरकार एवं स्वयंसेवी संस्थान द्वारा किया जाना चाहिए ताकि गावों के लोग भी पानी को अच्छी तरह संरक्षित कर सके और उसका मूल्य समझ सके। छोटे या बड़े तालाबों को बनाने के द्वारा बरसात के पानी को बचाया जा सकता है। स्कूलों में विद्यार्थियों को भी जल संरक्षण के बारे में बताया जाना चाहिए ताकि वो लोग भी इसपर कुछ अच्छा काम कर सके ताकि जल की बर्बादी होने से बच सके। विकासशील विश्व के बहुत से देशों में रहने लोगों को जल की असुरक्षा और कमी प्रभावित कर रही है। आपूर्ति से बढ़कर माँग वाले क्षेत्रों में वैश्विक जनसंख्या के 40% लोग रहते हैं। और आने वाले दशकों में ये परिस्थिति और भी खराब हो सकती है क्योंकि सबकुछ बढ़ेगा जैसे जनसंख्या, कृषि, उद्योग आदि।

जल को कैसे बचायें (How to Save Water in Hindi) –

हम रोजाना पानी को कैसे बचा सकते है उसके कुछ बिंदु इस प्रकार है आईये जानतें है।

  • अपने बागान या उद्यान में तभी पानी देना चाहिये जब उन्हें इसकी जरुरत हो।
  • पाइप से पानी देने के बजाय फुहारे से देना अधिक बेहतर होगा, जो आपके कई गैलन पानी को सेव कर सकता है।
  • जल को बचाने के लिये सूखा अवरोधी पौधा लगाना अच्छा तरीका है।
  • जल के रिसाव को बचाने के लिये पाइपलाइन और नलों के जोड़ ठीक से लगा होना चाहिये जो प्रतिदिन आपके लगभग 15-20 गैलन पानी को बचाता है।
  • कार को धोने के लिये पाइप की जगह बाल्टी और मग का इस्तेमाल करें जो हर आपके 140-200 गैलन पानी को बचा सकता है।
  • पूरी तरह से भरी हुई कपड़े धोने की मशीन और बर्तन धोने की मशीन का प्रयोग करें जो प्रति महीने लगभग 300 से 800 गैलन पानी बचा सकता है।
  • शौच के समय कम पानी का इस्तेमाल करें।
  • फलों और सब्जियों को खुले नल के बजाय भरे हुए पानी के बर्तन में धोना चाहिये।
  • बरसात के पानी को जमा करना भी एक तरीके का जल संरक्षण ही कहलाता है।

हमें जल क्यों बचाना चाहिये?

  • जल ही जीवन है इसके बारे में पूरी दुनिया जानती है।
  • जल हमारे स्वस्थ के लिए बहुत ही जरुरी साधन है।
  • जल के बिना जीवन संभव नहीं है।

Save Water in Hindi Slogan

“जल ही जीवन है”

ख़राब जल और जल की कमी से दुनिया में क्या हो सकता है ?

  • अगर पानी सही नहीं है तो पानी से होने वाली बीमारियों के कारण दुनिया भर में 4 मिलियन से ज्यादा लोग मर जाते है।
  • गंदे पानी की वजह से होने वाली बीमारियों से सबसे ज्यादा विकासशील देश पीड़ित हैं।
  • पानी से होने वाली बीमारियों के कारण हर 15 सेकेण्ड में एक बच्चा मर जाता है।
  • हर दिन समाचार पत्रों को तैयार करने में लगभग 300 लीटर पानी खर्च हो जाता है।
  • पूरे विश्व में लोगों ने पानी के बॉटल का इस्तेमाल शुरु कर दिया है जिसकी कीमत $70 से $80 बिलियन प्रति साल है।
  • India, Africa and all over Asia के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को साफ पानी के लिये लंबी दूरी (लगभग 4 कि.मी. से 5कि.मी.) तय करनी पड़ती है।
  • सही पानी न होने से बिमारियों का जन्म होता है जिससे कई देशों की अर्थव्यवस्था प्रभावित होती है।

जल बचाव के कुछ सामान्य टिप्स

  • खुद की जिम्मेदारी को समझना चाहिये।
  • गार्डन को पानी देने से, शौच में पानी डालने से, साफ-सफाई आदि के लिये पानी की बचत।
  • बरसात के पानी को शौच, लाँड्री, पौधौ को पानी आदि के उद्देश्य लिये बचाना चाहिये।
  • कपड़ों को केवल धोने की मशीन में धोना चाहिये।
  • फुहारे से नहाने के बजाय बाल्टी और मग का प्रयोग करें।
  • नल को ठीक से बंद करना चाहिये।
  • होली त्योहार के दौरान पानी के अत्यधिक इस्तेमाल को कम करने के लिये सूखी और सुरक्षित Holi को बढ़ावा देना चाहिये।
  • जागरुकता फैलाने के लिये हमें जल संरक्षण से संबंधित कार्यक्रमों को बढ़ावा देना चाहिये।
  • गर्मी के मौसम में कूलर में अधिक पानी बर्बाद न होने दें।
  • पौधारोपण को वर्षा ऋतु में लगाने के लिये प्रेरित करें जिससे पौधों को प्राकृतिक रुप से पानी मिलें।
  • हाथ, फल, सब्जी आदि को खुले हुए नल के बजाय पानी के बर्तन से धोने की आदत बनायें।

निष्कर्ष

पृथ्वी पर जीवन का सबसे अच्छा और जरुरी स्रोत जल ही है, इसलिए हमें जीवन के सभी कार्यों को निष्पादित करने के लिये जल की आवश्यकता होती है जैसे – पीने, भोजन बनाने, नहाने, कपड़ा धोने, फसल आदि पैदा करने के लिए जल की बहुत ही जरुरत होती है। इसलिए हम सभी को मिलकर जल का संरक्षण करना चाहिए ताकि इसकी गुणवत्ता बनी रहे और आने वाले लोग इसका भरपूर लाभ ले सके।

(1500 Words)

Save Water Essay in Hindi से जुडी जानकारी आपको कैसी लगी?